Friday, January 30, 2009

अंश


कैसा मीठा एहसास है ये ....
पूहु बगानो से सावन में ???
सींच रहीं हूँ जिस एहसास को ..
मेरी काया का अंश है तू |

मेरे ख़्वाबो की हक़ीकत है तू....
बेरंग तस्वीर के रंग है तू....
मेरे ममत्व का सौभाग्य है तू...
आधूरे जीवन का अंश है तू|

प्यार से सब से प्यारा तोहफा...
पाया है तुम्हारे रूप में मैने...
यशोमति के आँगन की तुम्हारी खुसबू ....
कृष्णा!!! क्या महकाएगी मेरे अंगान को???

प्रतीक्षा का पल इतना सुहावना ना था..
कब तुम्हे आपने गोद में भर लू ....
लीनहो जाउ तुम्हारे भोले पन में....
सादिया जी लूँ इस एक पल म||



12 comments:

  1. हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

    मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

    यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

    शुभकामनाएं !


    "टेक टब" - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

    ReplyDelete
  2. आपका लेख पढ़कर हम और अन्य ब्लॉगर्स बार-बार तारीफ़ करना चाहेंगे पर ये वर्ड वेरिफिकेशन (Word Verification) बीच में दीवार बन जाता है.
    आप यदि इसे कृपा करके हटा दें, तो हमारे लिए आपकी तारीफ़ करना आसान हो जायेगा.
    इसके लिए आप अपने ब्लॉग के डैशबोर्ड (dashboard) में जाएँ, फ़िर settings, फ़िर comments, फ़िर { Show word verification for comments? } नीचे से तीसरा प्रश्न है ,
    उसमें 'yes' पर tick है, उसे आप 'no' कर दें और नीचे का लाल बटन 'save settings' क्लिक कर दें. बस काम हो गया.
    आप भी न, एकदम्मे स्मार्ट हो.
    और भी खेल-तमाशे सीखें सिर्फ़ "टेक टब" (Tek Tub) पर.
    यदि फ़िर भी कोई समस्या हो तो यह लेख देखें -


    वर्ड वेरिफिकेशन क्या है और कैसे हटायें ?

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर…आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    ReplyDelete
  4. बहूत सुंदर अभिव्यक्ति है....संत पंचमी की आप को बधाई

    ReplyDelete
  5. I told u na that your poems are nice and u should share them. See everyone appreciating them now. Hope to see more of your creativity here. Good work, keep it up!!!

    ReplyDelete
  6. Hi Priya it's me Prakash'SHIRISH' You r an expert in poetry, I like it. Keep it up.There's the Link for my profile, please visit once.

    ReplyDelete
  7. bahut achcha..
    kabhi yahan bhi aaye..
    http://jabhi.blogspot.com

    ReplyDelete
  8. sundar likha hai....mere blog par bhi padharen....swagat hai....


    jai ho magalmay ho...

    ReplyDelete
  9. mamatwa se bhari huyi sundar rachana.

    -----------------"VISHAL"

    ReplyDelete
  10. आपका ब्लॉग देखा बहुत अच्छा लगा.... मेरी कामना है की आपके शब्दों को नए अर्थ, नयी शक्ति और नयी ऊजा के साथ व्यापक संप्रेषण की क्षमता मिले जिससे वे जन-सरोकारों की सशक्त अभिव्यक्ति का माध्यम बन सकें...

    कभी मेरे ब्लॉग पर पधारें-

    http://www.hindi-nikash.blogspot.com

    सादर-
    आनंदकृष्ण, जबलपुर

    ReplyDelete

Followers